‪*पन्नों की तरह दिन पलटते जा रहें हैं.*

*खबर नहीं कि ये आ रहें हैं या जा रहे हैं.*

🙏🌹 *सुप्रभात* 🌹🙏
‪*हमेशा अपनी “बात” कहनें का अन्दाज खूबसूरत रखो….*
*ताकि “जवाब” भीं खूबसूरत सुन सको..*

*प्रेम की धारा, बहती है जिस दिल में,*
*चर्चा उसकी होती है, हर महफ़िल में…*

*🌹🌹सुप्रभात*🌹🌹

Search FunnyTube On Google