जींदगी जीता हु खुली किताब की
तराह,
ना कोई फरेब ना कोई लालच,
मगर मे हर “बाजी”खेलता हूं
“बीना देखे”कयुकी,
ना मुजे हारने का गम ना जीत ने का जशन….

FunnyTube.in