🙏🏼🙏🏼इस कविता को पढ़े और समझे 🙏🏼🙏🏼

दुध पिलाया जिसने छाती से निचोड़कर
मैं ‘निकम्मा, कभी 1 ग्लास पानी पिला न सका । 😭
बुढापे का “सहारा,, हूँ ‘अहसास’ दिला न सका
पेट पर सुलाने वाली को ‘मखमल, पर सुला न सका । 😭
वो ‘भूखी, सो गई ‘बहू, के ‘डर, से एकबार मांगकर
मैं “सुकुन”के ‘दो, निवाले उसे खिला न सका । 😭
नजरें उन ‘बुढी, “आंखों से कभी मिला न सका ।
वो ‘दर्द, सहती रही मै उसका दर्द मिटा न सका । 😐
जो “जीवनभर” ‘ममता, के रंग पहनाती रही मुझे
उसे “दिवाली  पर दो ‘जोड़ी, कपडे सिला न सका । 😭
“बिमार बिस्तर से उसे ‘शिफा, दिला न सका ।
‘खर्च के डर से उसे बड़े अस्पताल, ले जा न सका । 😐

“माँ” के बेटा कहकर ‘दम,तौडने के बाद से अब तक सोच रहा हूँ,
‘दवाई, इतनी भी “महंगी,, न थी के मैं ला ना सका -मै ला न सका। 😭
माँ तो माँ होती हे भाईयों माँ अगर कभी गुस्से मे गाली भी दे तो उसे उसकी “Duaa” समझकर भूला देना चाहिए|✨,, ✨

मैं  यह वादा करता  अगर यह पोस्ट आप दस ग्रुप मे भेजोगे तो कम से कम दो बेटे इस पोस्ट को पढ कर अपनी माँ के बारे मे सोचेंगे जरुर!!!!!!!! 😐

TopJokes.in