🌞🙏🏽 जीत… 🙏🏽🌞
👉🏽कौन समझाए उन्हें इतनी जलन ठीक नहीं,
जो ये कहते हैं मेरा चाल-चलन ठीक नहीं…

🌹झूठ को सच में बदलना भी हुनर है लेकिन,
अपने ऐबों को छुपाने का ये फन ठीक नहीं…

💐उनकी नीयत में ख़लल है तो घर से ना निकलें,
तेज़ बारिश में ये मिट्टी का बदन ठीक नहीं…

🌹शौक़ से छोड़ के जाएँ ये चमन वो पंछी,
जिनको लगता है ये अपना वतन ठीक नहीं…

💐हर गली चुप सी रहे, और रहें सन्नाटे,
मेरे इस मुल्क में ऐसा भी अमन ठीक नहीं…

🌹जो लिबासों को बदलने का शौक़ रखते थे,
आखरी वक़्त ना कह पाए क़फ़न ठीक नहीं…!!!

TopJokes.in