🌹🌹   राधारमण  🌹🌹

ऐ सखी..
मुद्दत के बाद उसने जो आवाज़ दी मुझे….

कदमों की क्या बिसात थी,
साँसे भी ठहर गयीं…!!

  🌹🌹✨✨🕉🕉🌹🌹

TopJokes.in