Play It Now

आज शहीद दिवस है मुस्कराता वो चेहरा सुखदेव का गहरी निगाहें वो गुरु राज की वो इंकलाबी दीवानगी भगत की आखिर डूब गई जीवन की शाम गुमनाम वही शहादत की शाम जमकर रोया था आसमान तड़प रही थी धरती की शान हँसते हँसते लुटा गए जो अपनी जान नहीं मिला उन्हें अब तक पहचान उनकी शहादत की याद में खौल उठे लहू का सम्मान क्रांति सूर्य अब हुआ अवसान सत्ता का होता नित घमशान बना यह भारत दुखता शमशान जब तक रगों में अपनी जान जियेंगे हम शहादत की शाम ममता आज यह विवश है आज शहीद दिवस है ! शेर दिल जहाँ रहते शेर जवान अद्भुद जहाँ रहा युगों से विज्ञान खेतों में मुस्कराता हर किसान बन गएँ अब दर्द की दास्तान पूरी आजादी की मंजिल में बाकी रहा यह आधा मुकाम रो रहा भगत तुम्हारा हिन्दुस्तान तड़प रहा सुखदेव का स्वाभिमान नहीं रहा राज गुरु का निशान क्यों भूल गएँ आजादी का नाम जिन्दा हम बन गुलामी की शाम पूरा हुआ नहीं शहीदों का काम तुम डाल दो फांस आसमानों में लगा दो आग सत्ता के मकानों में तुम हो आखिर उन दीवानों में भारत आज विवश है भारत का महा पर्व है क्रांति सूर्य का उत्सर्ग है हमारा भटका हुआ फर्ज है देश का हम पर बड़ा कर्ज है गीरीबी में ममत्व मस्त है कल्पनाओ का सूरज अस्त है आज शहीद दिवस है ...................
TopJokes.in